.
Skip to content

चंद्रज्योत्ना-सी आभा लिए **एकता**

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

July 1, 2017

*खिलती हुई कली के जैसी
उगती हुई सुबह के जैसी
चंद्रज्योत्सना जैसी शीतल
ऐसी है उसकी मुस्कान
जहाँ भी जाए या न भी जाए
खुशबू और प्रकाश फैलाए
ऐसा है उसका एहसास

*बोली में रस,मुख पर आभा
मन निर्मल,स्वरूप है सादा
हर बात से मन पर छाप छपाए, सबको कर देती है मुग्ध
जब बात अपनी वो कह जाए

*सहयोगी व्यक्तित्व है उसका चिड़िया के जैसे है चहके
एक के दिल को नहीं यह बाला
सबके दिल को मोह से जीते

*नाम भी उसका ऐसा है
उसके व्यक्तित्व के जैसा है
एकता में विश्वास है रखती
अपने नाम को परिपूर्ण है करती

*मैंने तो कर दिया है विवरण
अब तुम ही उसको जानो
साथ तुम्हारे रोज है रहती
उसका तुम सब कहना मानो

***समझ सको तो
समझ लो अब तुम
कौन है वह
क्या नाम है उसका
बिना बताए
जानो अब तुम
पहचान सको
पहचानो अब तुम

***चंद्ज्योत्सना-सी आभा उसकी
फूलों-सी मुस्कान है उसकी
एकता के साथ ही साथ
शांति भी वह कायम रखती
इसी पंक्ति में छिपा है
उसका अपना का नाम |||

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
प्यार भी मानसून हो जाए ----
प्यार भी मानसून हो जाये. फरबरी बाद जून हो जाये. तुमको चाहूँ किसी अदा से मैं, इश्क मेरा जूनून हो जाए. झूठ ना बोलना पड़े... Read more
बात और होती है.......
बात और होती है.....!! किसी के पलकों से निंदे चुराना तो और बात है ...! किसी के इंतजार मे पलकें बिछाने की बात कुछ और... Read more
तो वो कविता है
शब्द कम हो और सिख बडी दे जाये,तो वो कविता है मोहब्बत के मारे शायर बना फिरता है वो शायरी प्रकृति से मिल जाए,तो वो... Read more
मन की बात
मन मन की सब कोई कहे, दिल की कहे ना कोई। जो कोई दिल की कहे, उसे सुनता नही है कोई। मन पापी मन चोर... Read more