गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

चंदा मामा

**चंदा मामा (बालगीत)**
*********************

कितना खूबसूरत है चाँद,
देखते ही सब देते दाद।

रात चाँदनी चंदा करता,
श्याह अंधेरे को हरता।

छोटे बच्चों का लगे मामा,
पहनता नहीं कभी पजामा।

मध्य में उसके श्याम धब्बा,
बताते बात कालू अब्बा।

पूर्ण से आधा हो जाता,
चन्द्रग्रहण है लग जाता।

मद्धिम मंद रहता चमकता,
खुशियों की झोली है भरता।

नभ में दमकता है सितारा,
चन्द्रमा है सबसे न्यारा।

मनसीरत महताब निहारे,
महताबी रंग बहुत न्यारे।
*********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

26 Views
Like
You may also like:
Loading...