23.7k Members 49.8k Posts

चंचल मन

Nov 23, 2018

चंचल मन उड़ता पुरजोर पवन में
अरमानो के पंख लिए नील गगन में

कभी विश्वासों की डोर बाँध जाता
आशाओं की डगर को जाता
व्याकुल मन दर्पण बन जाता
दुविधा सारी पल में छू कर जाता
कभी उलझता कभी सुलझता
क्षण भर में कितना इठलाता
पल भर में जाने कितनी सैर को जाता
चंचल मन उड़ता पुरजोर पवन में
अरमानो के पंख लिए नील गगन में

निर्मोही मन की परते अनेक
हर इक लिपटी संशय में
राही अडिग है फिर भी पथ पे
उत्साह उमंगें लिए हृदय में
आशाओं के सागर में
बढता जा इस भवसागर में
बढ़ते ही पहचान है तेरी
रूकने की कोई राह नहीं
चंचल मन उड़ता पुरजोर पवन में
अरमानो के पंख लिए नील गगन में

कभी विह्ग बन उड जाता गगन में
पतंग सम लहराता कभी अपने ढंग में
कभी लहरों संग हिलोरे लेता
मन की दृढ़ता से ही जीत हमारी
मन के विचलित होने पर हार
नैया इसी पतवार से पार लगानी
सुन ओ जरा खेवनहार

चंचल मन उड़ता पुरजोर पवन में
अरमानो के पंख लिए नील गगन में

नेहा
खैरथल (अलवर )
राजस्थान

Like 4 Comment 2
Views 269

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Neha
Neha
Khairthal
70 Posts · 4.2k Views