23.7k Members 49.9k Posts

घूमता रहूं

मैं तो ठहरा घुमन्तु इन्सान
जब मन किया निकल लिए घुमने को
कभी सागर की गहराई नापने
कभी खुले नीले गगन को चूमने को
ऐसा भी जो जाता है अक्सर
कोई ठिकाना कह लेता है मुझसे
रुक जा तू यहाँ हमेशा के लिए
अस्थिरता ठीक नही ज़िन्दगी के लिए
मन भी सोच में पड़ जाता है
क्या ये सही है या गलत है
लेकिन जीतता आखिर दिल ही है
जिस काम से मिलता है मुझको सकून
उसे मैं क्यूँ न करूं
जब तक जियूँ बस घूमता ही रहूँ

4 Views
Surjeet Besra
Surjeet Besra
Pakur
2 Posts · 7 Views