.
Skip to content

घूँघट के पार

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

July 1, 2017

????
नारी के हाथ सृष्टि की पतवार,
बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार।

घर-आँगन रौशन करती सूरज दमदार,
स्नेह, ममता, त्याग, शक्ति रूप सकार ।
नारी दुर्गा, काली लक्ष्मी का अवतार,
नर से प्रबल सदा प्रेरणा का आधार।
बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार….. ।

ओढी शिक्षा का चुनर आधुनिक विचार,
घर-बाहर सम्हालती ये दोधारी तलवार।
तोड़ दी सारी गुलामी की चार दीवार,
गूँज रही है चाँद पर आजादी की झंकार।
बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार…… ।

सेना बन नित करती दुश्मन पर वार,
देश के रक्षा के लिए सदा खड़ी तैयार।
फूल सी कोमल यदि बन जाती अंगार,
दुष्ट दनवो का क्षण में कर देती संहार।
बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार……. ।

सजग,सचेत,सबल,शालीनता का व्यवहार,
नहीं भूलती अपनी धर्म, मर्यादा, संस्कार।
कर दे मात नियति को भी बनी ऐसी औजार,
हर क्षेत्र में कर रही नारी ईश्वरीय चमत्कार।
बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार…………।

नारी के हाथ सृष्टि की पतवार,
बहुत कुछ है नारी सृष्टि के पार।
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
हूँ मै नारी/मंदीप
हूँ मै नारी, डरती हुई नारी, पल पल मरती हूँ नारी, बजारू नजरो से बचती हुई नारी। हूँ मै नारी.... बिलकती हुई नारी, खुद को... Read more
*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*
Neelam Ji कविता Jun 22, 2017
कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी , कभी बहन तो कभी बेटी है नारी । मत समझना नारी को कमजोर , साक्षात् शक्ति का... Read more
"*नारी की महत्ता पर दोहे* *************** नारी जग का मूल है, नारी से संसार। नारी जीवन दाायिनी,पूजो बारंबार।। नारी घर की आन है, नारी घर... Read more
नारी शक्ति
????? श्रेष्ठतम संस्कारों से परिष्कृत है नारी। सतत् जाग्रत और सहज समर्पित है नारी। ? जीवन-शक्ति की संरचना करने वाली है नारी। आदिरूपा,आदिशक्ति,महामाया,काली है नारी।... Read more