Jun 10, 2021 · गीत
Reading time: 1 minute

घुमड़ घुमड़ कर, नाचै रे

गीत—-घुमड़ घुमड़ कर, नाचै रे
***********************

आज अचानक , दिल क्यूँ मेरा, घुमड़ घुमड़ कर, नाचै रे ।
हर आहट पर, हो भौचक्का पलक फाँवढ़े साजै रे ।
आज आचनक ——।

मोर पपीहा राह निहारें काहे न बरखा आवै रे ।
खेल रहे हैं आँख मिचोली घिरि घिरि बदरा जावै रे ।
आज आचनक——-।

गूँज रही मोहन की मुरली दूर कहीं पर बाजै रे ।
बाँध के डोरी खींचे दिल को पल पल ऐसा लागै रे ।
आज आचनक ——।

बैठ हिंडोले में मैं जाऊँ प्रीतम मोरा आवै रे ।
ले पैगाम ख़ुशी का सावन झूम झूम कर गावै रे ।
आज आचनक——।

***********
©✍ डॉ०प्रतिभा ‘माही’

3 Likes · 1 Comment · 18 Views
Copy link to share
Dr. Pratibha Mahi
63 Posts · 4.3k Views
Follow 8 Followers
मैं प्रेम श्रृंगार लिखती हूँ...सुरों के साज़ लिखती हूँ... लिखती हूँ रब के अनमोल वचन....और... View full profile
You may also like: