.
Skip to content

घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

अन्य

March 12, 2017

(मुक्त छंद)

चर्म रोग में चाटता, कुत्ता अपनी खाल|
मानव निज तन कर रहा, खुजा खुजा कर लाल||
खुजा खुजा कर लाल, हारकर वैद्य बुलाता |
कुक्कुर बिना दवा के चंगा, रोब दिखाता||
कह “नायक” कविराय, श्वान स्वाधीन दिख रहा |
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा ||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

नकली रंग न लताएं, चर्म रोग हो सकता है |

असली/प्राकृतिक रंगों का प्रयोग करें
……………………………………………………………..
निम्न बिंदुओं पर अमल करें
1-स्वास्थ्य का ध्यान रखें
2-सफाई से रहें
3-मानवीय मूल्योंकी रक्षा करें
4-विविधता में समरूपता के दर्शन करे
………………………………………………………….
जय हिंद,
होली की शुभकामनाएं

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more