गीत · Reading time: 1 minute

घिरे घन

*घिरे घन*
००००००
उमड़ घुमड़ घन घिरे गगन में‌, जैसे मन सरसाते हैं ।
यौवन के बादल ऐसे ही , हर जीवन में छाते हैं ।।
*
झुलसी हुई धरा के तन पर ,जम कर झूम बरसते हैं ,
कभी फुहारों से रिमझिम झर , ताप हृदय का हरते हैं ,
अँकुराते हैं कोमल किसलय , नयना झुकें लजाते हैं ।
यौवन के बादल ऐसे ही हर जीवन में छाते हैं ।।१
*
झूलों पर बैठा मन झूले , झोटा लगें सुहाने से ,
घूँघट में चंदा शरमाये , नजरों के मिल जाने से ,
चार दिनों की खिले चाँदनी , तारे देख सिहाते हैं ।
यौवन के बादल ऐसे ही हर जीवन में छाते हैं ।।२
*
घायल करता है अनंग मन ,रति की प्यास जगाता है ,
साँसों से साँसें मिलतीं ,मन में मन डूब समाता है ,
हर जीवन की यही कहानी , सुनते सभी सुनाते हैं ।
यौवन के बादल ऐसे ही , हर जीवन में छाते हैं ।।
०००
-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा !
***

35 Views
Like
83 Posts · 5.3k Views
You may also like:
Loading...