.
Skip to content

घर

राहुल आरेज

राहुल आरेज

मुक्तक

March 17, 2017

घर
बचपन की आँख मिचोली को अपने आगोश मे लिपेटे याद आता है घर ,
घुटनों के बल सरक-सरक घर की दिवार से मिट्टी खाने का स्वाद है घर।
बचपन की इन अस्पष्ट यादों के धुधले चलचित्रो से सजा याद आता है घर,

निकल पडते है हम कुछ पाने के लिऐ माँ-बाप का आशीष लेकर,
बडे विश्वास के साथ कहती है माँ जा बेटा कुछ पायेगा हम से दुर रह कर।
दिल मे बस उन उन्मुक्त दिनों की याद समेट कर बैठा है घर॥

आगे बडे बडते ही गये हर बाधा का परिहास करते हुऐ,
याद आता है माँ के हाथ से बनी महेरी का कलेवा,
मोह बडता गया अपने पिछे रह गये अब स्पष्ट नजर आता है जीवन का छलावा। लेखक राहुल आरेज उर्फ फक्कड बाबा

Author
राहुल आरेज
राहुल मीना
Recommended Posts
जब याद आता
जब याद आता ❤❤❤❤❤❤ जब मन मेरा जब अकुलाता है याद प्यारा बचपन आता है वो थपथपाता हाथ स्पन्दन पा का बार बार समझाता है... Read more
अक्सर याद आता है
अक्सर याद आता है अक्सर याद आता है..... वो ममतामयी अचपन ! माँ का आँचल , बाबुल की डांट.. वो रूठना ..मटकना ... बिन बोले... Read more
घर याद  आता है माँ
?घर याद आता है माँ ? सब छोड जाते वक्त के साथ पर माँ की वह दुलार साथ रहती है , गम मिलते है जिंदगी... Read more
बचपन
बचपन वो बचपन याद आता है तितलियो के पीछे भागना पकड़कर डब्बे में बंद करना और उन संग खेलना फिर खुले आसमा में छोड़ देना... Read more