Skip to content

घर याद आता है माँ

राहुल आरेज

राहुल आरेज

मुक्तक

March 17, 2017

?घर याद आता है माँ ?
सब छोड जाते वक्त के साथ पर माँ की वह दुलार साथ रहती है ,
गम मिलते है जिंदगी मे तो माँ की प्यार भरी डाँट याद आती है ,
कहती है सुधर जाओ राहुल ,
अभी मुझमे बचपना है तो कर देता हूँ गलतियाँ,
सोचता हूँ सुधर जाउगा माँ की प्यारी डाँट के बाद,
पर अब मुझे माँ की उस प्यारी डाँट मे विद्रोह नजर आता है ,
नही नही माँ तो माँ है शायद मुझमे ही कुछ बदलाव नजर आता।
माँ घर याद आता है)

Share this:
Author
राहुल आरेज
राहुल मीना
Recommended for you