31.5k Members 51.8k Posts

घर मैं हूँ जैसे पड़ा समान प्रिये

घर में हूँ जैसे पड़ा समान प्रिये
***********************

तेरे दर पर रहूँ मैंदिन रात प्रिय
तेरी सुनता रहूँ मैं हर बात प्रिये

यारों संग छूट गए हैं साथ प्रिये
तेरे अंग संग रहूंँ दिन रात प्रिये

सह लिए थे तेरे उलाहने बहुत
उलाहना बोझ रहा हूँ तार प्रिये

दिन रात मुझे तुम टोकती थी
हर टोक रहा हूँ अब उतार प्रिये

बाहर जाने पर तुम रोकती थी
घर मैं हूँ जैसे पड़ा सामान प्रिये

बच्चों के पापा रहते घर पर है
बच्चों संग खेल रहा ताश प्रिये

जो कहते तुम घर पे रहते नहीं
बाहर क्यों नहीं जाते काम प्रिये

तेरी सेवा करने से मैं वंचित था
तेरी सेवा करूँ मैं दिन रात प्रिये

सुखविंद्र परिवार हो स्वर्ग तुल्य
बाकी रह ना जाए अरमान प्रिये

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

5 Views
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कैथल हरियाणा
1k Posts · 7.9k Views
सुखविंद्र सिंह मनसीरत कार्यरत ःःअंग्रेजी प्रवक्ता, हरियाणा शिक्षा विभाग शैक्षिक योग्यता ःःःःM.A.English,B.Ed व्यवसाय ःःअध्ययन अध्यापन...
You may also like: