Skip to content

घरी घरी देखें घड़ी

Dr. Harimohan Gupt

Dr. Harimohan Gupt

दोहे

November 14, 2017

घरी घरी देखें घड़ी , कौन घड़ी वे आयें
घरी घरी पल – पल गिनें , घरी घरी अकुलाएँ

Author
Dr. Harimohan Gupt
डॉ. हरिमोहन गुप्त को मैंने निकट से देखा है l 81 वर्ष की आयु में भी उनमें युवा शक्ति है l अभी भी चार घंटे प्रतिदिन मरीजों को देते हैं और शेष समय साहित्य साधना में l ये जिला जालौन... Read more
Recommended Posts
*विश्वास*
जब विश्वास अटल होता उजला हर इक पल होता हर मुश्किल बनती आसां ज़ीवन ये सफल होता *धर्मेंद्र अरोड़ा*