.
Skip to content

घनाक्षरी

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

घनाक्षरी

July 18, 2017

कृपाण घनाक्षरी –
8,8,8,8 वर्णों पर यति और अंत्यानुप्रास, अंत में गुरु लघु अनिवार्य ।
(1)
रूपराशि बनी हाला,नशा करे मतवाला,
तिल है कपोल काला,देखें सब बार- बार।
चाल गजगामिनी सी,बनी ठनी मानिनी सी,
दंतकांति दामिनी सी,बात-बात झरे प्यार।
आँखों में अंजन लगा,दिल लिए प्रेम पगा,
राही भी है खड़ा ठगा,देख करे मनुहार।
रति की पताका लिए,हँसी का ठहाका लिए,
रूप अति बाँका लिए,जिसे देखे देती मार।।
(2)

फैला देश में आतंक,नित्य ही ये मारे डंक,
परेशान राजा रंक, कुछ करो सरकार।
चीखता अब कश्मीर, बढ़ती ही जाए पीर,
सिर के ऊपर नीर, करो अब आर-पार ।
मरते जवान रोज,त्याग भी दो अब भोज,
मारो सभी खोज खोज,सेना को करो तैयार।
सोच विचार छोड़ दो,तोपों का रुख मोड़ दो,
अणु बम को फोड़ दो,सुनो देश की पुकार।।
डाॅ0 बिपिन पाण्डेय

Author
Recommended Posts
एक बार बता तो आखिर बात क्या है ?
एक बार बता तो आखिर बात क्या है ? खफा होना तो हक़ है तेरा, मगर ये बेवजह बेरुखी कि बुनियाद क्या है ? एक... Read more
??एक बात छोटी-सी??
हम बताते हैं,.... एक बात छोटी सी। फूलों की हँसी में है जो सौग़ात छोटी सी।। जीवन में अँधेरा है तो उजाला भी होगा। आएगी... Read more
छंद: मनहरण घनाक्षरी
किंचित न अभिमान, रखते सभी का ध्यान, राग-द्वेष कटुता से, रीते रहें मोदीजी. देश से ही करें प्यार, माटी चूमें बार-बार, स्नेह प्रेम रसधार, पीते... Read more
जिंदगी आपकी हंसी सी है...
फूल,तितली,कली,परी सी है. ज़िन्दगी,आपकी हंसी सी है. इस कदर यूँ घुली मिली सी है. मैं समंदर हूँ वो नदी सी है. ज़िक्र तेरा हुआ नहीं... Read more