गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

गज़ल

कभी ज़ुल्फो के इन सायों में मेरी शाम हो जाये
मिरा भी आशिको की दुनियाँ में नाम हो जाये

गिला तो ये है तुम आते नहीं छत पे कभी मेरे
कभी तो आसमाँ से चाँद उतरे जाम हो जाये

शिकायत तुमसे है मेरी अदावत भी है तुम्ही से
यही सर पर हमारे जुनूँ – ऐ – इल्जाम हो जाये

जुदा हो कर कहीं मर जाएँ ना तन्हाइयों से हम
कही वो मौत ना तेरे बगैर बेनाम हो जाये

जहाँसे बेखबर हो कर बसाया दिलमें तुम्ही को
छुपाते फिर रहा तू ना कही बदनाम हो जाये

इशारों ही इशारों में कभी इजहारे मुहब्बत हो
तरसती इन निगाहों को तिरा पैगाम हो जाये
( लक्ष्मण दावानी )
1/11/2016

72 Views
Like
10 Posts · 665 Views
You may also like:
Loading...