.
Skip to content

गज़ल

rekha mohan

rekha mohan

कविता

April 21, 2017

गज़ल
-1222—1222—1222—1222
करे हम याद ईश्वर को वही किस्मत सुधारा है
ख़फ़ा होना नहीं हम से मिरा तू ही सहारा है|
तलातुम है घिरी कश्ती भरोसे आज ढूढे ये
मिरी पतवार भी तू ही तूही होगा किनारा है |
ज़मीने हिन्द हे ये हम सभी ही है यहां के ही
बना जीना हमारा भी कुदरत का इशारा है ।
चला जो मै सफ़र पर तो नही भी पल हमारा है ,
उड़ी पथ धूल में पाया बदन को भी गवारा है |
नही खोयू तुफानों डर समय ने ये पुकारा है
लगेगी पार नैया यही रेखा वक्त तुम्हारा है |
रेखा मोहन २१/४/२०१७

Author
rekha mohan
Recommended Posts
शहीदों को नमन
वज्न-? 1222-1222-1222-1222 अर्कान- मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन बह्र - बह्रे हज़ज़ मुसम्मिन सालिम ग़ज़ल --------- शहादत आज जो दी है उन्हें हम याद रक्खेंगे। शहीदों... Read more
*विधाता छंद*मापनी-1222 1222 1222 1222
ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता... Read more
क्रांतिकारी
विषय- *क्रान्तिकारी* विधा- *मुक्तक* बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ १२२२* मिटा आज़ाद का सपना, नही आज़ाद भारत है। सभी को नोट की चाहत, वतन से भी... Read more
ग़ज़ल रचनाएँ
बुरे हालात में सबंध अच्छा टूट जाता है,,,,,, गरीबी में यहाँ लडकी का रिश्ता टूट जाता है ।।।। नई इस कौम को देखो जरा समझा... Read more