.
Skip to content

गज़ल :– ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

March 20, 2017

गज़ल :– ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।
बहर :- 2122–2122-2122

ख्वाब बन आँखों में अब वो छा रहे हैं ।
ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।

मन्नतों में जो कभी मांगे हमें थे ,
आज क्यों नज़रें चुराकर जा रहे हैं ।

कर्ज हम रखते नहीँ ज्यादा किसी का ,
उनकी यादें तोल कर लौटा रहे हैं ।

कातिलाना है बड़ी उनकी अदायें ,
अब शहर में जुल्म बढ़ते जा रहे हैं ।

कत्लखानों में ज़रा मंदी हुई क्या ,
देखो वो गंगा नहा कर आ रहे हैं ।

देखिए दहलीज ये पानी में डूबी ,
आप ऐसे आँख क्यों छलका रहे हैं ।

गज़लकार :– अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
प्राथमिक शिक्षा का अधिकार
प्राथमिक शिक्षा का अधिकार ******************************** भारत सरकार काफी समय से एक मिशन चला रही है जिसका नाम है ‘शिक्षा का अधिकार’ | इसके लिए सरकार... Read more
दो बह्र पर एक प्रयास
दो बहरी गजल:- 1बह्र:-2122-1122-112­2-112 2बह्र:-2122-2122-212­2-212 बेसबब रिश्ते -ओ-नातों के लिए बिफरे मिले।। जब मिले मुझको मेरे सपने बहुत उलझे मिले।। ज़िन्दगी जिनसे मिला सब ही... Read more
बयाँ-ए-कश्मीर
मैंने कहा कि धरती की है स्वर्ग ये जगह उसने कहा की अब तुम्हारी बात बेवजह सुनता जरूर हूँ कि थी ये खुशियों की ज़मीं... Read more
कहानी
कहानी..... ****सुगंधा *** यशवन्त"वीरान" उस दिन पापा की तबियत कुछ ठीक नहीं थी.मैं घर के काम में व्यस्त थी तभी पापा की आवाज सुनाई दी."बेटी... Read more