गज़ल :-- व्यंग ......मुँह मथानी हो गय़ा !!

ग़ज़ल :– व्यंग….. मुँह मथानी हो गय़ा !!

बहर :–
2122—2122—2122—212 =26

चंद पैसों की तपिश में वो गुमानी हो गय़ा !
छाछ सी खट्टी जुबां अरु मुँह मथानी हो गय़ा !!
!
उम्र बढ़ते बाप-दादों का पता अब तक नहीं !
खैरियत क्या पूछ ली वो खानदानी हो गया !!
!
इक हुआ प्रस्ताव पारित चार झन के जोर से !
चौक उसके नाम का वो राजधानी हो गय़ा !!
!
रौब से अब रंग बदला चाल कमसिन हो गई !
ख्वाब में उड़ता रहा वो आसमानी हो गय़ा !!
!
क्या कहें तारीफ़ में वो हैं लताड़े जा चुके !
आसरा हम कर लिये वो स्वाभिमानी हो गय़ा !!

कवि – अनुज तिवारी “इन्दवार”

Like Comment 0
Views 154

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share