.
Skip to content

गज़ल :– ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

December 10, 2016

गज़ल :– ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ।।

मापनी :–
2122–2122–2122–212

दिल में शोले जो रखे हों वो जला करते नहीँ ।
क्या डराएगा ज़माना हम डरा करते नहीँ ।

नफरतों में जो सने हो वो वफा करते नहीँ ।
नफरतो से जो मँजे हों वो दगा करते नहीँ ।

चीरती लहरों के सीने को यहाँ तब कस्तियां ।
जब समंदर कस्तियों का कायदा करते नहीँ ॥

दर्द को समझो सदा हालात को भी भाँपिए ।
हसरतें हर हाल में पूरी किया करते नहीँ ।

खुद के गुस्से पर ज़रा अंकुश लगाना सीख लो ।
ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ।

अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more