.
Skip to content

गज़ल :– मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

November 18, 2016

गज़ल :– मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥

बहर :- 2122-2122-2122-212

माँग लूँ उसको खुदा से दे के बदले जान भी ।
मुझको पाने की इबादत की थी मेरे यार नें ॥

हर तरफ़ चर्चे बहुत हैं और बातें प्यार की ।
प्यार में ऐसी महारथ की थी मेरे यार नें ॥

भूलवश मैं यार का दिल तोड़ दूँ मुंकिन नहीँ ।
प्यार में हर पल शहादत दी थी मेरे यार नें ॥

मैं यहां सब कुछ भुला बस साथ चाहूं यार का ।
साथ चलने की ये आदत की थी मेरे यार नें ॥

बेच दूँ खुद को “अनुज” शर्तों में अपने प्यार के ।
बेपना पाकी मुहब्बत की थी मेरे यार नें ॥

अनुज तिवारी “इंदवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
इंसानियत इंसान से पैदा होती है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी शोहरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का खुला मुख, मनका भी हूँ... धागा भी... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more