.
Skip to content

गज़ल :– जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

ग़ज़ल :– जो आज भी उसमें गुमान बाकी है !!
बहर :– 2212 2212 1222

जो आज भी उसमें गुमान बाकी है ।,
नातों का सारा इम्तिहान बाकी है ।

वो जंग अपनों से कभी नहीं हारा ।
उसके लहू में जो उफान बाकी है ।

उपहार में जो ज़ख्म है दिए उसने ।
उस जख्म का गहरा निशान बाकी है ।

इन आँधियों में उड़ते झोपड़े अक्सर ।
उनका महल तो आलीशान बाकी है ।

सूरज अभी जो है मुंडेर में तेरे ।
पर देख तो आगे ढलान बाकी है ।

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
इस शहर में क़याम बाकी है
इस शहर में क़याम बाकी है कुछ अधूरा सा काम बाकी है गुफ़्तगू सबसे हो गयी मेरी सिर्फ उनका सलाम बाकी है इक शजर पे... Read more
रात बाकी है
अभी आज की पूरी रात बाकी है तेरे मेरे बिच की मुलाकात बाकी है तेरे इंतज़ार में गुज़ार दी है कई रातें आज भी मेरी... Read more
नहीं क्यों आजमाया जो शिकायत है अभी बाकी।
             . *गजल* नहीं क्यों आजमाया जो शिकायत है अभी बाकी। नजर  बदनाम  है  बेशक शराफत है अभी बाकी। जुबां  खामोश  बैठी  है  यकीनन कुछ... Read more
अभी मत जा सावन
अभी मत जा सावन , भीगना तोह अभी बाकी है कुछ ही दिल जीते है, कुछ को जीतना अभी बाकी है ज़ख़्म जो सूख गए... Read more