.
Skip to content

गज़ल :– आज मातम छा गया घनघोर मेरे गाँव में !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

गज़ल/गीतिका

September 21, 2016

ग़ज़ल :– आज मातम छा गया घनघोर मेरे गाँव में !!
बहर :–
2122–2122-2122–212

रमल मुसद्दस मुजाहिफ गज़ल

आज मातम छा गया घनघोर मेरे गाँव में !
चंद कुत्तों नें मचाया शोर मेरे गाँव में !!

जब कहीं गोली की आहट से गरजता आसमां !
दहशतों में नाचता मनमोर मेरे गाँव में !!

गीध से ताके सियासी, हादसों की गंध को !
बस सियासत हो रही चहुंओर मेरे गाँव में !!

आज ये सूरज की लाली रक्तमय लगती मुझे !
बादलों सी दिल को चीरे भोर मेरे गाँव में !!

उस समन्दर में भँवर करने की देरी आज क्यों ?
जिसके लहरों की “अनुज” हिलकोर मेरे गाँव में !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
याद मेरे गाँव की
मुझे सोने नहीं देती, खुश होने नहीं देती, याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की। जिस आँगन में बचपन बीता वो सूना पड़ा है,... Read more
गज़ल :-- ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।
गज़ल :-- ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।। बहर :- 2122--2122-2122 ख्वाब बन आँखों में अब वो छा रहे हैं । ज़ख्म मेरे... Read more
आ  तो सही  इक  बार मेरे गाँव में
आ तो सही इक बार मेरे गाँव में अद्भुत अतिथि सत्कार मेरे गाँव में हर वक्त रहते हैं खुले सबके लिए सबके दिलों के द्वार... Read more
मुक्तक :-- आज मेरे ख़त का जवाब आया है !!
मुक्तक :-- आज मेरे ख़त का जवाब आया है ! मात्रा भार -- 2122 2122 2122 आज मेरे ख़त का जवाब आया है ! महबूब... Read more