गज़ल :-- अब हमारे दरमियां भी फासला कुछ भी नहीँ ।।

तरही गज़ल :–
2122–2122–2122–212

आसरा कुछ भी नहीँ है वासता कुछ भी नहीँ ।
ज़िंदगी तो चंद लम्हों के सिवा कुछ भी नहीँ ।

बिन तुम्हारे ये चमन है आज भी उजड़ा हुआ ,
अब हमारी खैरियत का सिलसिला कुछ भी नहीँ ।

देखता जो हर पहर आगोश में मुझको लिए ,
हैं सितारे लाख , मेरे चाँद सा कुछ भी नहीँ ।

मेरी हर इक आह उल्फ़त को बयां करती हैं ये ,
*इन निगाहों का तेरे बिन आसरा कुछ भी नहीँ ।*

तुम सदायें याद रखना हमवफा हरगिज़ वहाँ ,
अब हमारे दरमियां भी फासला कुछ भी नहीँ ।

आग थी ये तो विरह की वस धुआँ उठता रहा ,
लोग कहते हैं वहाँ पर तो जला कुछ भी नहीँ ।

हम उसूलों पे चले, हैं राह-उल्फ़त मोड़ पे ,
रौँदने के इक सिवा अब रासता कुछ भी नहीँ ।

अनुज तिवारी “इंदवार”
उमरिया
मध्य-प्रदेश

स्वरचित

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 184

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share