कविता · Reading time: 2 minutes

गौरैया

बड़े दिनों के बाद आज
गौरैया मेरे घर आई
बहते हुए नाबदान से कुछ
दाने चुनकर खाई

थोडा सा जलपान किया
तृप्त हो ली अंगड़ाई
ऐसा लगा छप्पन भोग को
गौरैया खा मुस्काई

बोली मेरी बात सुनो तुम
अन्नदेव को मत फेकों
जितना अनाज फेकते हो
बस उतना मुझको दे दो

खेतों में तुम जाल बिछाते
कभी जहर छिड़कते हो
हम पंछी परिवार से तुम
इतना भी क्या जलते हो

हम फसलों को सदा किट
पतंगों से रक्षा करते
खेतों में मलमूत्र त्याग कर
हरी खाद से है भरते

अगर नहीं हम होते सोचो
किट पतंगे क्या करते
किट पतंगे अगर ना होते
परांगण कैसे होते

जितना हम मेहनत करते
बस उतना हक़ माँग रहे
सारी धरती हड़प लिए हो
जंगल को भी हड़प रहे

मेरे हक़ का अन्न मार कर
नाबदान में फेक रहे
जो ईश्वर संसार रचाये
वो सबकुछ हैं देख रहे

धरती नदी पहाड़ बनाये
जंगल और मैदान कही
तुमको मुझको वही बनाये
भोजन सबको दिए वही

फिर भी तुम कहते हो मेरा
सब छीन ले जाते हो
तुच्छ स्वाद के लिए हमारा
बेटा काट कर खाते हो

बड़ी-बड़ी बातें करते हो
सुविचार को रचते हो
दया,अहिंसा,न्याय के झूठे
छद्म अलाप जपते हो

बड़े-बड़े हो धर्म बनाते
ईश्वर को ठगते हो
कुर्बानी बलि झुठ प्रथा रच
काट हमें खाते हो

अगर कही सच जन्नत होगी
नहीं पहुँच तुम पाओगें
हम निस्वार्थ अहिंसक पंछी
को जन्नत में पाओगे

मगर जहन्नुम सचमुच का
बना दिए हो धरती को
हमको मार मार कर खाते
खुद मरने से डरते हो

कही धर्म के नाम मारते
कही नीच जिहाद पर
कही सरहद के नाम मारते
कही आतंकवाद कर

योगी योगेन्द्र

1 Like · 2 Comments · 25 Views
Like
4 Posts · 125 Views
You may also like:
Loading...