Skip to content

गौरेया

मनीषा गुप्ता

मनीषा गुप्ता

कविता

March 20, 2017

चूं चूं करती जब
चिड़िया रानी
सुबह सुबह बुलाती है …

उसकी यह मनमोहक अदा
मेटे मन को लुभाती है …

फुदक फुदक मेरे चारो और
अपनी चाहत बतलाती है…

देख मेरे हाथ में दानो का
कसोरा , उड़ कर उस पर
आ जाती है …………

चूं चूं करती जाती और
एक एक दाना चुग जाती है…

जाते जाते कहती एक अदा से
कल वापस फिर आउंगी ….

तुझ से मिलकर तेरे हाथो से
अपनी भूख मिटाऊँगी …….

बहुत प्यारा नाता है हम दोनों का
जीवन भर साथ निभाने का …..

कुछ पल अपने दे कर
उसका मधुर प्यार पाने का …..

????????????

मनी

Author
मनीषा गुप्ता
शिक्षा - हिंदी स्नातकोत्तर कृतियां - बरसात की एक शाम नाट्य विधा - औरत दास्ताँ दर्द की नाट्य विधा - जिंदगी कैसी है पहेली अनेक पत्र पत्रिका में कहानियां , लेख , और कविताएं
Recommended Posts
कहानी अनन्त आकाश --- कहानी संग्र्ह वीरबहुटी से
कहानी --- लेखिका निर्मला कपिला ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओंओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर... Read more
कहानी अनन्त आकाश -------  वीरबहुटी संग्रह से
कहानी ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर पर भी मेरी आवाज... Read more
नई सुबह - कहानी -- निर्मला कपिला1
नई सुबह - कहानी -- निर्मला कपिला1 आज मन बहुत खिन्न था।सुबह भाग दौड करते हुये काम निपटाने मे 9 बज गये। तैयार हुयी पर्स... Read more
कहानी -- वीरबहुटी
वीरबहु‍टी --- कहानी-- निर्मला कपिला साथ सट कर बैठी,धीरे धीरे मेरे हाथों को सहला रही थी । कभी हाथों की मेहँदी कोदेखती कभी चूडियों पर... Read more