31.5k Members 51.9k Posts

मेघ गोरे हुए साँवरे

Jul 26, 2016 10:37 AM

मेघ गोरे हुए साँवरे
लो थिरकने लगे पाँव रे

देख मन भावनी सी पवन
और महका हुआ ये चमन
भाव में डूब बहने लगी
कल्पना गीत रचने लगी
घूम आई बहुत दूर तक
मन बसे याद के गाँव रे
मेघ गोरे हुए साँवरे

शोर बिजली करे जोर से
शाम लगता मिली भोर से
हैं धरा भी ख़ुशी में मगन
पर अकेला हुआ ये गगन
चाँद सूरज सितारे नहीं
बादलों की घनी छाँव रे
मेघ गोरे हुए साँवरे

प्रीत दिल में कहीं पल रही
पर विरह आग में जल रही
भीगते साथ तन और मन
पर बुझाये बुझी कब अगन
खेलते प्यार में ही रहे
हार या जीत के दाँव रे
मेघ गोरे हुए साँवरे

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

1 Like · 15 Comments · 178 Views
Dr Archana Gupta
Dr Archana Gupta
मुरादाबाद
941 Posts · 96.6k Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: