Skip to content

गुलिस्ता

Rita Yadav

Rita Yadav

मुक्तक

June 29, 2017

गुल का गुलिस्ता से है ,…..रिश्ता ए पुराना
अजीज कोई बन जाता, जीवन में अनजाना
शुरू होता है तब जीवन का नया अफसाना
खिलता आंगन में फूल ,महक जाता आशियाना

रीता यादव

Share this:
Author
Rita Yadav
Recommended for you