Skip to content

गुलाम

Vedha Singh

Vedha Singh

कहानी

December 7, 2017

सीता का विवाह हुए अभी चार महीने ही बीते थे। सब कुछ ठीक चल रहा था। बस रोहन के व्यवहार में थोड़ा बदलाव आया था। सीता जब भी ऑफिस से लेट आती तो रोहन तने देना शुरू कर देता। जब देखो तब उसे निचा दिखाने में लगा रहता। छोटी-छोटी बात पर झगड़ा करने लगता। एक दिन की बात है सीता की सांसू माँ आई हुईं थीं। सीता शाम को ऑफिस से जल्दी लौट आई। वो सांसु माँ से बाते कर ही रही थी की तभी रोहन मोबाईल में किसी से बाते करते हुए बिना जूता खोले घर घूस गया। फिर जब उसकी बातें ख़तम हुई तो कपड़े उतारकर फेंक दिए और मोबाईल पे लग गया। थोड़ी देर बाद उसने सीता से पानी माँगा। सीता पानी ले के जा रही थी तभी उसके हाथ पानी जमीं पे चालक के गिर गया और थोड़ा रोहन के पाजामे पे। रोहन तुरत उठके उसके मुँह पे एक चमेटा मारा और बोलै ‘तुमसे एक गिलास पानी माँगा वो भी तुमसे संभल के नहीं दिया गया। सिर्फ ऑफिस में रात के नौ बजे तक लफंदर गिरी करना आता है। ‘ रोहन ने सीता की अपनी माँ के सामने पूरी बेजती कर दी। सीता ने कुछ नहीं बोला। वह चुप-चाप रोटी हुई अपने कमरे में चली गयी। रोहन की माँ सब कुछ देख रही थी। उन्हें ये बात बिलकुल पसंद नहीं आयी। वो जाके रोहन को तीन- चार चपत लगाई और बोली ‘मैंने तुझे यहीं संस्कार दिए है? मैं शाम से तेरी हरकते देख रहीं हूँ। मुझे बिलकुल पसंद नहीं आई। पत्नी से ऐसे पेश आते है। तुझे तो पत्नी की कदर नहीं है। पत्नी घर की लक्ष्मी होती है। और तू लक्ष्मी को मर के भागना चाहता है। वो औरत है औरत किसी की गुलाम नहीं। जो सबके इशारों पे नाचेगी। सीता जैसी पत्नी और बहु दुनिया में किसी-किसी को ही मिलती होगी। बेचारी घर बहार दोनों संभालती है। थक जाती होगी। जा जाके उससे माफ़ी मांग और आज रत का खाना तू ही पकायेगा।

Share this:
Author
Vedha Singh
hello friends, I am Vedha Singh. I study in class IV. I love to write very much. I learnt the art of writing poems and stories from my mother. I write english stories in my blog-vedhasingh2000.blogspot.com. I love to read... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you