.
Skip to content

गुलाबों की तरह खिलना कहाँ आसान होता है

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

मुक्तक

July 18, 2017

गुलाबों की तरह खिलना कहाँ आसान होता है
गले काँटों से मिल हँसना कहाँ आसान होता है
मिटा देते हैं ये खुद को लुटाने के लिए खुश्बू
ख़ुशी यूँ बाँट कर मिटना कहाँ आसान होता है

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ चिड़ियों के भी पहले जैसे गान कहाँ आज एक ही बच्चे से परिवार बने रत्नों जैसे रिश्तों की... Read more
मुक्तक
अपनी यादों को मिटाना आसान नहीं है! अपने गम को भूल जाना आसान नहीं है! तन्हाइयों की राह पर जब चलते हैं कदम, सफर से... Read more
अजीब सी जिंदगी
अजीब सी है ज़िंदगी, सफ़र तो है पर मुकाम नहीं कभी उलझनों सी सुबह,कभी बदमिज़ाज सी शाम है कहाँ अब प्रेम अपनत्व और रिश्तों में... Read more
कितनी आसान
कितनी आसान कितनी आसान थी जिन्दगी की राहे. मुश्किले तो खुद ही खरीद लेते है. बहुत कुछ पा लेने पर भी हम. बहुत पा लेने... Read more