23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

गुरू वन्दना

नमामि गुरूवर नमामि गुरूवर, नमन करो स्वीकार !
मे मूरख अज्ञानी मुझमे अवगुण दोष हजार..!

आप कृपा के सागर हो ,अमृत है आपकी वाणी !
उद्धार करो मेरा गुरूवर, मे हु अधम प्राणी !!

परम् कृपा से ईश्वर की, सानिध्य आपका पाया है !
आपकी अनमोल दया ने, दास को भाग्यशाली बनाया है !!

है ज्ञानियो मे महाज्ञानी, सत्य के सांचे मे मुझको ढालो !
ज्ञान रूपी बाणो से ,मेरे मन का शेतान मिटा डालो !!

जब भी हो मुझसे भूल कोई, उस भूल को आप भुला देना !
क्षमा दान देकर मुझको, फिर सत्य का पाठ पड़ा देना !

रहे परमार्थ सदा उर मेरे, एसी कृपा करो सरकार !
नमामि गुरूवर नमामि गुरूवर ,नमन करो स्वीकार,
मेरा नमन करो स्वीकार…!

5 Views
डॉ संदीप विश्वकर्मा
डॉ संदीप विश्वकर्मा "सुशील"
9 Posts · 255 Views
You may also like: