.
Skip to content

मुझे गुरूर -न दे

Anish Shah

Anish Shah

गज़ल/गीतिका

August 20, 2017

मेरे मौला जो भी देना है दे गुरूर-न दे।
मेरे अपने को जुदा करदे वो सुरूर-न दे।।

एक प्यासे की तश्नगी जो बुझा न सके
ऐसी दौलत का समंदर मेरे हुजूर न दे।।

हर शख्श जहां से मुझे अदना सा लगे
ऐसी होती है बुलंदी मुझे जरूर-न दे।।

कड़कती धूप में रहवर को छांव दे न सके
मेरे आंगन के दरख्तों में वो खजूर न दे।।

आज भाई बना हुआ अपने भाई का रकीब
एक दरिया के किनारों को इतनी दूर न दे।।

लोग कहते है ये “अनीश” बेअदब है बड़ा
मेरे किरदार में मौला क्यों सऊर-न दे ।।

Author
Anish Shah
अनीश शाह " अनीश" (अध्यापक) एम. एस. सी (गणित) बी. एड. निवास-सांईखेड़ा ,नरसिंहपुर (म.प्र.) मो. 7898579102 8319681285
Recommended Posts
क्या करिश्मा दिखा दे
न जाने ख़ुदा क्या करिश्मा दिखा दे | तुझे क्या पता है वो कब किसको क्या दे .. गिनाता उसे है शिकायत बहुत तू .... Read more
वर दे वर दे
वर दे वर दे वीणा वादिनी वर दे, भर भर दे माँ मेरी झोली तू भर दे, देना हैं तो मुझको माँ एक वर दे... Read more
दिल की कर लेने दे
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?दिल की कर लेने दे? आज मुझे भी जीभर कर रो लेने दे,,,, दिल के दर्द को आज कह लेने दे,,,, मेरे गम ए दर्द... Read more
अब मुझे ज़िन्दगी भी दे साहिब
अब मुझे जिंदगी भी दे साहिब इक हसीं आशिक़ी भी दे साहिब। कोई सितमगर भी मुझसे प्यार करे कोई ज़ालिम हसीं भी दे साहिब। मैं... Read more