गुऱूर -न दे

वज्न-2122 1122 1212 112/22
ग़ज़ल
मेरे मौला जो भी देना है दे गुरूर-न दे।
मेरे अपनों से ज़ुदा करदे वो सुरूर-न दे।।

तिश्नगी भी न मिटा पाए एक प्यासे की।
ऐसी दौलत का समंदर मेरे हुज़ूर न दे।।

शख़्स हर एक जहां से मुझे लगे अदना ।
ऐसी होती है बुलंदी मुझे जरूर-न दे।।

जो कड़ी धूप में राही को छांव देता नही।
मेरे आंगन के दरख़्तों में वो खजूर न दे।।

तेरे ब़न्दों को लड़ाऊं मैं बांटकर तुझको।
नफ़रतों का मेरे ज़ेहन में ये फितूर-न दें।।

आज भाई ही बना है रकीब भाई का।
एक दरिया के किनारों को इतनी दूर न दे।।

लोग कहते हैं बड़ा बेअदब़”अनीश”हुआ।
मेरे क़िरदार में मौला तू क्यों सऊर-न दे ।।
@nish shah

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 167

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share