.
Skip to content

गुरु वंदन …..

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

September 5, 2016

प्रथम चरण वंदन गुरु देव को, राह अस्तित्व की दियो बताये।
मुझे निर्जन शिला से, घिस घिस कर नगीना दियो बनाये ।।

कितने शुभ दिवस पर बना आज पावन संजोग
गुरु गणपति संग आयो है गुरु दिवस का योग ।।

गुरु महिमा बखान क्या कीजे , मन बुद्धि गुरु से निर्मल होये ।
बिन गुरु जीवन पत्थर समान, पड़े हाथ गुरु के मोती बन जाये ।।

जीवन के श्रंगार को रूप मिले माता पिता के प्रेम ज्ञान से ।
खुशबू के रंग भरता गुरु, जीवन महकता उनके कल्याण से ।।

नमन हर उस इंसान को जो जीवन में मेरे आता है ।
देकर अच्छे बुरे अनुभव कुछ न कुछ सिखा जाता है ।।
!
!
!
डी. के निवातियाँ _____@@@

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
गुरु और लघु
गुरु बिन ज्ञान कहाँ? गुरु बिन ध्यान कहाँ? गुरु बिन कहाँ जीवन, गुरु बिन सम्मान कहाँ।। गुरु बिन राज कहाँ? गुरु बिन साज कहाँ? नहीं... Read more
*गुरु एक भ्रांत शब्द*अंतस चेतना ही गुरु*
जीवन-उर्जा है गुरु, जहां फैले ... वही उजियारा, जीवन ही परम प्रेम, जाना है कोई जाननहारा, जहां से उठे लहरें, वही पर हो सवेरा, बिन... Read more
गुरु-वन्दना
शिक्षक दिवस पर विशेष गुरु -वन्दना हे गुरुवर तम्हें शत-शत प्रणाम , तुम ज्ञानालोक सत्पथ के धाम।।हे गुरुवर......... अज्ञान तिमिर बिनाशक तुम, दुर्बुद्धि कुमार्ग के... Read more
लाल बिहारी लाल के गुरु पर कुछ दोहा
शिक्षक दिवस (गुरु पर) पर विशेष या लाल बिहारी लाल के गुरु पर कुछ दोहा बिना गुरु ज्ञान जग में,ले ना पाया कोय। गुरु का... Read more