.
Skip to content

गुरु पुरनिमा

मधुसूदन गौतम

मधुसूदन गौतम

गीत

July 10, 2017

आज गुरु पूर्णिमा पर एक ओर हटकर मेरी कलम घिसाई
विधा 30 मात्रिक छंद
******************************

कायनात के हर जर्रे ने मुझको ज्ञान सिखाया है।
किसे कहूँ मैं आज गुरु फिर मन मेरा चकराया है।
मां ने माना सबसे पहले मुझको शब्द बुलाया है।
पर इस से आगे कितनो ने अपना फर्ज निभाया है।
अच्छा और बुरा क्या है सबकी अपनी ही थाती है।
मेरे मन के ईश्वर ने ही निर्णय पर पहुंचाया है।
कृष्णम वन्दे जगतगुरु माना यह जुमला अच्छा है।
श्री कृष्ण को भी तो आखिर किसी ने मार्ग दिखाया है।
दुनियां पागल बनती फिरती किसी एक को गुरु चुनकर।
गुरु कौन है इसको लेकर सारा जग भरमाया है।
खोट गुरू में नही कभी भी यह हो ही नही सकता।
मतिअंधो ने फेर में पड़कर इस तथ्य झुठलाया है।
पांव पूजते जाने कितने कितने कान फुंकाते है।
गुरु नाम पर पाखंडियो ने ऐसा चलन चलाया है।
आत्म ज्ञान से बढ़कर आखिर कोई ज्ञान नही होता।
जिसने पूजा निज मन को उसने ही सद्गुरु पाया है।
इक पन्थ दिखाया जुगनू ने तो क्या ?सारा तिमिर गया।
इन खद्योतो के आगे तुमने सूरज ठुकराया है।
मेरे तो गुरु जाने कितने सबको शीश नवाता हूँ।
हे परमात्मा सबको रखना जिनने पाठ पढ़ाया हैं।

******मधुसूदन गौतम

Author
मधुसूदन गौतम
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।
Recommended Posts
गुरु वंदन …..
प्रथम चरण वंदन गुरु देव को, राह अस्तित्व की दियो बताये। मुझे निर्जन शिला से, घिस घिस कर नगीना दियो बनाये ।। कितने शुभ दिवस... Read more
लाल बिहारी लाल के गुरु पर कुछ दोहा
शिक्षक दिवस (गुरु पर) पर विशेष या लाल बिहारी लाल के गुरु पर कुछ दोहा बिना गुरु ज्ञान जग में,ले ना पाया कोय। गुरु का... Read more
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
पर्व ‘गुरु पूर्णिमा’ ऐसे सच्चे गुरुओं के प्रति श्रद्धा व्यक्त करने वाला दिन है, जिन्होंने धर्म के रथ पर सवार होकर श्री कृष्ण की तरह... Read more
मुक्तक
तेरी याद आज भी मुझको रुलाती है! तेरी याद आज भी मुझको सताती है! भूलना मुमकिन नहीं है तेरे प्यार को, तेरी याद आज भी... Read more