.
Skip to content

गुरु को प्रणाम

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

मुक्तक

September 5, 2016

करे जीवन को साकार रूप प्रदत्त का काम
पत्थर से मानव को तराशे दे नगीना नाम
कभी मृदुल, कभी कठोर स्वरुप अपनाकर
इंसानियत पाठ पढ़ा दे ऐसे गुरु को प्रणाम !!

!
!
!
______डी. के. निवातियाँ ______

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
"गुरु की महिमा" दोहे गुरु महिमा गुणगान कर,गुरु को दो सम्मान। ज्ञान ज्योति का दीप बन,करते भव कल्याण।। गुरु की गरिमा ईश बढ़,गुरु ब्रह्मा गुरु... Read more
प्रणाम
प्रथम गुरु को प्रणाम, जिसने जन्म दिया, अपने सुख को बिसराकर,ममता का आँचल फैलाया, द्वितीय गुरु को प्रणाम, जिसने चलना सिखाया, उँगली पकड़कर इस जहां... Read more
राज योग महागीता: गुरुप्रणाम: ज्ञानकी जो मूर्ति हैं:: जितेन्द्र कमल आनंद: (पोस्ट६३(
गुरु प्रणाम ::: घनाक्षरी ------------------------ ज्ञानकी जो मूर्ति हैं , श्री श्री आनंद के जो धाम हैं , हैं करते अपना नहीं कभी भी सुप्रचार... Read more
गुरू
??????? शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं माता देती नव जीवन पिता है सुरक्षा कवच गुरु ईश्वर से बढ़कर जो करता है देशों का निर्माण सभी... Read more