Dec 8, 2020 · बाल कविता
Reading time: 1 minute

“गुड़िया की शादी”

“गुड़िया की शादी”

रीना मीना टीना बैठे,
गुड़िया को करने तैयार ।
राजू , गुड्डु ,बबलू ने सम्भाला,
मंडप का कार्य भार ।
अम्मा,ताई ..खूब मुस्काई,
मम्मी ,चाची नें बनाई मिठाई।
हम सब बच्चे नाच गा रहे,
आंगन में है बजनी शहनाई ।
चारों ओर रौनक लगी है,
मेरी गुड़िया की शादी है आई।

✍वैशाली
जकार्ता
8.12.2020

5 Likes · 2 Comments · 34 Views
Copy link to share
Vaishali Rastogi
81 Posts · 7k Views
Follow 41 Followers
मुझे हिंदी में काफी रूचि है. विदेश में रहते हुए हिन्दी तथा अध्यात्म की तरफ... View full profile
You may also like: