Skip to content

गुज़रा ज़माना

Neelam Sharma

Neelam Sharma

कविता

June 17, 2017

विद्यालय की यादें…….

सौंधी मिट्टी की भीनी भीनी खुशबू सी हैं
मेरे स्कूल की यादें।
प्यारी चिट्ठी सी सहेजी हैं
मैंने मेरे स्कूल की यादें।
मन के उपवन में रंगीं सुरभित
फूलों सी हैं मेरे स्कूल की यादें।
सावन की फुहार में बढ़ती पींघ के
ऊंचे झूलों सी हैं मेरे स्कूल की यादें।

स्कूली जीवन भी क्या जीवन था
वह अद्भुत मधुर संजीवन था।
वो समूह में सहपाठियों संग,
स्कूल में एक साथ जाना।
वो मुंह में,मां के दिए,भीगे बादाम छिपकर चबाना।
वो मुंह फुलाकर एक दूसरे से रूठना और मनाना।
वो बात बात में अजीबो गरीब शर्तें​ लगाना।

वो नवीन सत्र में कापियों पर खाकी जिल्द चढ़ाना।
वो अपने नाम अनुक्रमांक से सजी सफेद पर्ची चिपकाना
वो विषय सूची और सुधार कार्य को भी कलात्मक बनाना।
मिले जो उत्कृष्ट- सर्वश्रेष्ठ तो दोस्तों पर छा जाना।
वो मानिटर बनने पर,सबपे रोब जमाना और
लिखावट पर अपनी खामखां इतराना।
सबसे सुंदर मैं ही लिखती हूं कह भाई बहनों को चिढ़ाना।

कर खुद शरारत सहपाठी को डांट पड़वाना,आह!
बन गया स्कूली जीवन मेरा गुज़रा ज़माना।
हाय! वो गर्मी की छुट्टियों में घर नानी के जाना,
और मामियों का झोली भर अनाज देकर,
बासू की दुकान पे खंदाना।
उफ्फ मेरी नानी का मुझे बार-बार वो गंजा कराना।
डांटकर कि फिर से बंद हो गए नाक कान के छिद्र,
वो जबरदस्ती से छिदवाकर फिर तेल हल्दी लगाना।

वो स्कूल जाते हमें देख, मां का हाथ हिलाना, वो डर के
पापा जी से, मुल्तानी चाक से सफेद जूते चमकाना।
वो प्रार्थना सभा में पी.टी. सर का हमें पीटी कराना।
न जाने क्यों छूटा पीछे खो-खो और पिट्ठू गरम का फसाना, वो हाई जंप और योगा से बार बार कतराना।

वो हंसना साथ दोस्तों के,रोना और बिना बात खिलखिलाना।
वो शरारत और पढ़ाई सबकुछ साथ में करना।
वो दादी नानी का राजा रानी की कहानी सुनाना।
वो दादा नाना का सबसे लाडला कहाना।

वो घंटी बजते ही एक दूसरे का सारा लंच खाजाना।
वो अचार इमली चूर्ण चुस्की गुड़गट्टे का ज़माना।
वो दो चोटियां कर रिबिन लगाने से कतराना।
है हुई जाती निशब्द अब नीलम तेरी कलम
नहीं मुमकिन सब कविता में बताना, क्योंकि
अपने आप को अपने बच्चों का अच्छा आदर्श है बनाना।
खिल उठता है ये मन याद करके वो ज़माना।

नीलम शर्मा

Share this:
Author
Neelam Sharma

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you