Skip to content

गुजरे वक्त की याद………….रुलाती है |गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

मनोज कुमार

गीत

March 20, 2017

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

जबसे छीनी है प्यार की दौलत |
बनके हम तो फ़क़ीर बैठे है ||
झूठा ही सही ख़्वाब में आ जाना |
दूर रहकर ये रूह रोती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

अब तो मंजिल है ना ठिकाना है |
दिल की चाहत तुम्हीं को पाना है ||
तुमको भूला कभी ना गलती है |
तुमसे ही साँस मेरी चलती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

मैं तो दीपक तू मेरी बाती है |
हर घड़ी साथ दे वो साथी है ||
वफ़ा भी तुमसे जानी जाती है |
मेरी पहचान तुमसे आती है ||

गुजरे वक्त की याद याद आती है |
चुपसा रहता है दिल रुलाती है ||

“मनोज कुमार”

Author
मनोज कुमार
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/
Recommended Posts
सताती है रुलाती है तो बस तू याद आती है कोई चिन्ता जलाती है तो बस तू याद आती है अँधेरे मन के कोनों में... Read more
जो अपने थे कभी मुझको तो सारे याद रहते हैं
भले तुझको नहीं उल्फ़त के किस्से याद रहते हैं मुझे हर बेमुरव्वत वक़्त गुज़रे, याद रहते हैं कभी अपने नहीं थे जो उन्हें अब याद... Read more
माँ बहुत याद आती
हर पल हाेता है अहसास, रहती हाे सदा मेरे पास, याद तुम्हारी बहुत आती है माँ, अकेले मे बैठकर बहा लेता हूँ आंसू माँ, दिल... Read more
दिल रूठा रूठा रहता है
जब याद तुम्हारी आती है, दिल रूठा रूठा रहता है| यादे तेरी तडपाती मुझे, नयन से नीर भी वहता है|| दिल जान मेरा जीवन है... Read more