Dec 22, 2017
गीत · Reading time: 1 minute

गीत

अरे ओ बादल!
आ कर बरस जा गुलशन ए बहार में,
देख सूखने लगी है टहनियां ,
दरख्तों की तेरे इंतजार में ।

मंदिर गया मस्जिद गया ,
गया निजामुद्दीन के मज़ार में;
पर है खुदा की माया,
वो मिल गया मुझे मेरे यार में।

होठों पर हंसी, आंखों में ख्वाहिशें
और चेहरे पर उलझन,
चलते फिरते कई ग़ालिब,
मिलते हैं शहर के बाज़ार में।

: आलोक ( गीत)

41 Views
Like
9 Posts · 616 Views
You may also like:
Loading...