.
Skip to content

गीत

rajesh Purohit

rajesh Purohit

गीत

October 17, 2017

ज्योतिपर्व मनाओ ज्योति पर्व मनाओ।
दीन दुखी हर मानव को गले लगाओ।।

सद्भावना और भाईचारे का दीप जलाओ।
आस्था और विश्वास से लक्ष्मी को मनाओ।।

प्रेम और श्रद्धा से दीपमालिका सजाओ।
अमावस की ये रात रोशन सभी बनाओ।।

मन से ईर्ष्या, नफरत की दीवार गिराओ।
प्रीत के आशियाने को मिलकर सजाओ।।

अपनत्व के भावों से रोशनी पर्व मनाओ।
परहित के कामों में जीवन सर्वस्व लगाओ।।

स्वच्छ रहे गली मोहल्ला स्वच्छता दीप लगाओ।
इस दीपावली कर संकल्प खुशी के गीत गाओ।।

कवि राजेश पुरोहित

Author
rajesh Purohit
अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों में काव्यपाठ करना ,मंच संचालन करना .।गद्य व पद्य की दोनों विधाओं में लेखन। राष्ट्रीय स्तर की पत्र पत्रिकाओं में सतत लेखन। आशीर्वाद ,अभिलाषा,काव्यधारा प्रकाशित।
Recommended Posts
आ गयी दीपावली , शुभ स्वागतम् है ( गीत ) पोस्ट ३०
Jitendra Anand गीत Oct 17, 2016
आ गयी दीपावली है ********************* आ गयी दीपावली ,शुभ स्वागतम् है । बुझ चले जो दीप हैं, उनको जलाओ ।। तुम हँसो यों, हम हँसें,... Read more
??? ये ? पुष्प एक संदेश एक अहसास यही पैगाम एक आगाज, एक उत्पत्ति एक बीज़ एक शुरुआत एक अभिनंदन यही आगोश यही ममता, यही... Read more
होली
होली पर्व है प्रेम का, भाई चारा धर्म। मन का कलुष मिटाइए, समझ ज्ञान का मर्म।। समझ ज्ञान का मर्म, जैन शिन्तो ईसाई। हिन्दू मुस्लिम... Read more
सकारात्मकता
ना उम्मीदी के गहरे दरिया से निकालना है बहुत आसान सकारात्मकता का तेल डालकर विचार करो और प्रकाशवान ये सारी परिस्थितिया तुम्हारी सोच का ही... Read more