.
Skip to content

गीत

प्रमिला तिवारी

प्रमिला तिवारी

गीत

September 3, 2017

हृदय में मिले थे तुम्हीं गीत बनकर
चले तुम गए दृग में आँसू सजाकर

बस गये हो तुम सितारों में जाकर
यादों में आकर बरसने लगे हो
जब से गए रूठी तब से बाहारें
कलियाँ नहीं मुस्कुराती है खिलकर
हृदय में मिले थे तुम्हीं गीत बनकर

तुम्हें ढूँढ पाते न आँसू हमारे
हमें रोक पाते न बंधन तुम्हारे
राह मे रोज दृग को बिछाए हुए हैं
चले क्यों गए मुझसे नाता छुड़ाकर
हृदय में मिले थे तुम्हीं गीत बनकर

प्रेम से न बढकर कोई भावना है
न बिरहा से उपर कोई यातना है
आपका प्रेम हीं है बची एक थाती
इसी प्रेम अग्नि में जीती हूँ जलकर
हृदय में मिले थे तुम्हीं गीत बनकर ।

प्रमिला श्री ( धनबाद )

Author
Recommended Posts
अन्तर्तम तक भिगो गए हैं.........
जी करता है रोज़ सुनाऊँ, लिख दूं इतने सारे गीत, जीवन लहरों का कोलाहल, कितने शान्त किनारे गीत । अन्त नहीं, आरम्भ कहाँ है, ओर... Read more
चल-चले मिले कहीं
चल-चले मिले कहीं न तेरा आश्रय न मेरा, प्रीति-गीत गाए कहीं चल-चले मिले कहीं। सच-झूठ की फिकर नही जिस राहा पर मिला, मैं अजनबी नही,... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
प्रीत में तुम सखी ----
प्रीत में तुम सखे स्वस्तिक हो गए ये जहाँ गौण तुम प्राथमिक हो गए. साथ जो तुम चले हाथ में हाथ ले, रास्ते नेह के... Read more