.
Skip to content

गीत

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

June 7, 2017

आरे आरे।

सुन, कहीं मत जाइयो दिलबर,
मेरा दिल पुकारे आरे आरे।

सुनो, नहीं सुनता दिल ये किसी की,
अब तू ही समझा रे आरे आरे।

वक्त थाम कर तुमको निहारूं,
आ बदलें मिलके,वक्त के धारे आरे आरे।

कल कल दरिया इश्क का बहता,
आ बैठजा संग मेरे, दरिया किनारे आरे आरे।

तेरा मन दर्पण मैं देख सजूं संवरू,
आ लगादे माथे,इक बिंदिया रे,आरे आरे।

रात सी काली, जुल्फें रेशमी,
आकर भरदे तू, चांद सितारे,आरे आरे।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
तू वो नहीं इस दिल को बताने के लिए आ
तू वो नहीं इस दिल को बताने के लिए आ भूल गया इसे याद दिलाने के लिए आ माँग सकूँ तुमको खुदा से वक़्त है... Read more
नये पेड़
रखे जा चुके हैं करारे लगाकर सवालात उल्फ़त के सारे लगाकर हैं दिल की ख़राशें गले की नहीं जो सुकूँ आ भी जाये गरारे लगाकर... Read more
गीत :अ दोस्त मेरे....दूर क्यों बैठा है तू
अ दोस्त मेरे, दूर क्यों बैठा है तू पास आ, कोई बात तो कर ले। ये दिल है तेरा........... मुलाक़ात तो कर ले। अंतरा-1 अपनो... Read more
खयाल
सुन, तेरी उल्फतों पर मलाल आ गया, बनी आंखें झरना,हाथ रुमाल आ गया। जब यूं ही बैठे बैठे खयाल आ गया, तब समंदर में दिल... Read more