Jun 16, 2016 · गीत

चिड़िया रानी

गीत
चिड़िया रानी एक कहानी
कहती थी बच्चों से नानी

बच्चों की जब मुराद पाई
औचक ख़ुशी से चहचहाई
ममता में फिर तुम दीवानी
ढूंढ रही थी दाना-पानी
रहती थी जैसे हो रानी
चिड़िया रानी…………

प्राण खुश्क जब बच्चे बिलखें
माँ की ममता कौन न निरखे
बारम्बार उनको खिलाती
खुद चाहे भूखी रह जाती।
चिड़िया देखो बहुत सयानी
चिड़िया रानी………….

बड़े हुए उड़ना सिखलाया
उड़े हो गया नीड़ पराया
बच्चों तुम माँ को न भुलाना
सदा दूध का कर्ज चुकाना।
करना कभी नहीं मनमानी
चिड़िया रानी……………..
…शारदा मदरा…

19 Views
poet and story writer
You may also like: