23.7k Members 49.9k Posts

गीत

सृष्टि कण कण में बसा है गीत का संसार
शब्द की स्वर लहरियों में गीत का श्रंगार
ग्यान में विज्ञान में है,साधकों के ध्यान में है
श्वास में निःश्वास में है गीत का अधिकार
खुली अलकों बंद पलकों में निहित है सादगी में
सुरमइ चम्पइ रंग में गीत के उद्गार
जन्म में है मरण में है त्याग में है वरण में है
हर अधर पर हर नयन में गीत का ही प्यार
पाश में है मुक्ति में है विश्व में है ईश में है
योग ऐर वियोग में है गीत कर्म प्रसार
सुरेशसोनी”शलभ”

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Suresh Soni
Suresh Soni
2 Posts · 352 Views
सुरेशसोनी"शलभ", सिवनी.मालवा, जिला=होशंगाबाद, मध्यप्रदेश | श्रंगार ,देशभक्ति ,गीत गजल ,मुक्तक | स्वन्ताय सुखीय समाज सेवा...