गीत

प्रेम जब ह्दय होता है ,
तो दिल गाफिल होता है।
न दिखता कोई अपना ,
इश्क जब नाजिल होता है।
लहरें होश खोती है ,
समंदर ज़ोश भरता है ।
किनारे शर्त करते है ,
शाहिल बीच होता है ।
खींच दो फलक में पर्दे ,
सूरज कहा रूकता है ।
बादल बिखर जाते है ,
चाँद भी कम निकता है ।
मिले एक बूंद स्वाति की,
पीह का जीवन होता है ।

— ———— ——- ———
स्वरचित :- शेख जाफर खान

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing