31.5k Members 51.9k Posts

गीत

स्वार्थ ,नफ़रत, द्वेष तज निज मन निरंजन कर चलो,
गर्त्त का पर्दा हटाते आत्ममंथन कर चलो।

आँख में भरकर उमंगें मूल्य अपना आँकते,
लालसा के रथ चढ़े उपलब्धियों को नापते।
प्यास तृष्णा की बुझा अब कुछ चिरंतन कर चलो,
गर्त्त का पर्दा हटाते आत्ममंथन कर चलो।

भ्रमित करती कामना से बढ़ रहा अँधियार है,
विहँसती नियती मनुज पर घट रहा उजियार है।
मोह का पथ त्याग अविरल आज चिंतन कर चलो,
गर्त्त का पर्दा हटाते आत्ममंथन कर चलो।

चाहतों की मस्तियों में लक्ष्य निज खोना नहीं,
क्षीण होती देह का नैराश्य अब ढोना नहीं।
सत्य-शाश्वत जान जीवन राह कंचन कर चलो,
गर्त्त का पर्दा हटाते आत्ममंथन कर चलो।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’

1 Comment · 6 Views
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
महमूरगंज, वाराणसी (उ. प्र.)
479 Posts · 43.9k Views
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका।...
You may also like: