Skip to content

गीत

Ravi Sharma

Ravi Sharma

गीत

November 6, 2016

उलझ- उलझ कर सुलझ- सुलझ कर, फिर से उलझ जाती हूँ ।
तुम्हें जब उदास पाती हूँ ।

मचल- मचल कर, संभल- संभल कर, फिर से मचल जाती हूँ ।
जब दिल के पास पाती हूँ ।

बिखर- बिखर कर, सिमट- सिमट कर, फिर से बिखर जाती हूँ ।
जब दूर तुमको पाती हूँ ।

भटक- भटक कर, ठहर- ठहर कर, फिर से भटक जाती हूँ ।
जब ख़ुद से ख़फ़ा पाती हूँ ।

निखर-निखर कर, संवर- संवर कर, फिर से निखर जाती हूँ।
जब प्यार तेरा पाती हूँ ।

श्रीमती रवि शर्मा

Share this:
Author
Ravi Sharma
परिचय- आप एक लेखिका,कवयित्री एवं शिक्षिका हैं। पिछले लगभग ४४ वर्षों से आप मंच पर कवितापाठ करती आ रही हैं। आपके दो काव्य- संग्रह भी प्रकाशित हुए हैं। १. काव्य- किरण ( नव कवियों के लिए )२. काव्य- उमंग (... Read more
Recommended for you