गीत

मित्रो ! जय माँ शारदे !! जय वसंत !!!

****************
हर पतझड़ के बाद
****************

एक नया ऋतुराज हँसा है
हर पतझड़ के बाद

सुरभित कलिका की गलियों में
थिरकी पुरवा आज
पुलई-पुलई झाँक रहा है
ताजमहल का ताज
नीले-पीले इन खेतों में
बसा एक रसराज
हर पतझड़ के बाद

सरसों पहनी पीली चुनरी
तीसी के कनफूल
माला लेकर दौड़ रहे हैं
खिले-खिले वनफूल
गेहूँ झूला झुला रहा है
चना रखा महसूल
हर पतझड़ के बाद

शैशिर पवन रजाई ओढ़े
ताप रहा है आग
कपड़ा-लत्ता फींच रहा है
वह रंगीला फाग
कलरव की चहकन की भाषा
नवगीतों का राग
हर पतझड़ के बाद

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’
मेरठ

Like 1 Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing