Mar 16, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

गीत लिखूँ क्या?

भाव अभी अज्ञातवास पर गीत लिखूँ क्या,
दोस्त ही खंजर भोंकने तत्पर गीत लिखूँ क्या?
०००
आज वही निज साथ छोड़कर ऱूठ गये,
जिनका साथ दिया पग-पग पर गीत लिखूँ क्या?
०००
नाते ज़िन्दा रहते हैं संवाद से ही,
बैठे पर वह भुकड़-भुकड़ कर गीत लिखूँ क्या?
०००
स्वार्थ साधते रहे सदा जो औरों से,
लगा रहे आरोप वो हम पर गीत लिखूँ क्या?
०००
‘सरस’ ज़रूरी पीड़ायें लेखन के हित,
कभी न कह पीड़ायें पाकर गीत लिखूँ क्या?
*सतीश तिवारी ‘सरस’

25 Views
Copy link to share
आकाशवाणी जबलपुर से 16 बार एवं दूरदर्शन मध्यप्रदेश से एक बार रचनाएँ प्रसारित Books: (1)हाशिये... View full profile
You may also like: