.
Skip to content

गीत-मोहक छवि के दरश को मोहन…

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

गीत

April 20, 2017

?विधा – गीत ?
? तर्ज – तुम्हारी नजरों में हमने देखा…..

??????????

मोहक छवि के दरश को मोहन, प्यासी अंखियाँ तरस रही हैं।
विरह की बदरी हृदय पे छाईं सावन – भादों बरस रही हैं।

किया था *वादा* मगर न लौटे बसे हो जाकर के द्वारिका में।
विरह की मारी फिरें तड़पती कुंजन – कुंजन लता – पता में।
मधुर – मिलन की अनुभूति से हृदय की कलियाँ हरष रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन…..

तुम्हीं हो माता-पिता तुम्हीं हो बन्धु सखा सहारे।
हमारे अंतर की स्मृति में अमिट अनेकों चित्र तुम्हारे।
गुजारे पल की सुहानी यादें जहां में खुशियाँ परस रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन…..

तुम्हीं को देखें तुम्हीं को चाहें तुम्हीं को पूजें तुम्हें निहारें।
तुम्हीं हमारे हो प्राणधन प्रभु हमारी सांसें तुम्हें पुकारें।
तुम्हारे चरणों का *तेज* बनने की कामनाएं सरस रही हैं।
मोहक छवि के दरश को मोहन प्यासी अंखियाँ तरस रही हैं।
विरह की बदरी हृदय पे छाईं सावन-भादों बरस रही हैं।

??????????
तेज 19/04/17✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
??गीत?? ? तर्ज - तुम्हारी नजरों में हमने देखा..... ??????????…
??गीत?? ? तर्ज - तुम्हारी नजरों में हमने देखा..... ?????????? मोहक छवि के दरश को मोहन, प्यासी अंखियाँ तरस रही हैं। विरह की बदरी हृदय... Read more
किसके भरोसे ?
"किसके भरोसे" ------------------ छोड़ गई हो ! किसके भरोसे ? हे ! दीपशिखा तू ! मीत को | तेरा जाना ! रास ना आया !... Read more
गीत
हृदय में मिले थे तुम्हीं गीत बनकर चले तुम गए दृग में आँसू सजाकर बस गये हो तुम सितारों में जाकर यादों में आकर बरसने... Read more
मोहन समझो मन की पीर
Rita Singh गीत Jun 26, 2017
मोहन समझो मन की पीर तुम बिन कैसे धरु मैं धीर । दिन रैना दर्श की तृष्णा किस विध तृप्ति हो बिन नीर । मोहन... Read more