Apr 9, 2018 · गीत
Reading time: 1 minute

गीत मेरा

*गीत मेरा*
*********
गीत पल छिन जिन्दगी के साथ में चलता रहा ।
मैं जला तो संग मेरे दीप बन जलता रहा ।।
*
रूप ,रस,मकरंद से संबंध है जो फूल का ,
है अनुप अनुबंध जैसे पाल से मस्तूल का
भावना की कोख में ये शिशु बना पलता रहा ।१
*
आँख में आँसू घिरे , भर अश्क आये गीत के,
या कभी मन में बसे जब , भाव टूटी प्रीत के,
पीर बनकर ये कराहा और मन छलता रहा ।२
*
जब मुहब्बत से किसी ने बाँह के बंधन कसे ,
नेह के कुछ बीज अंकुर से उगे उर में बसे,
गीत मेरा तो गज़ल के रूप में ढलता रहा ।३
*
छंद बन कर ये छलकता , तो लगा रसखान है ,
सूर का तुलसी कबीरा का सुनाता ज्ञान है ,
गीत मीरा बन गया हिम की तरह गलता रहा ।४
*
-महेश जैन ‘ज्योति’
मथुरा ।
***

31 Views
Copy link to share
mahesh jain jyoti
82 Posts · 4.2k Views
Follow 3 Followers
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ... View full profile
You may also like: