Skip to content

गीत — भारत माता

मनोज मानव

मनोज मानव

गीत

July 27, 2016

टुकड़ा नहीं धरा का भारत , ये जननी है माता है
हम कागज पर नहीं नागरिक , माँ बेटे का नाता है

शीर्ष हिमालय पावन जिसका
तल छूते है सागर को
पर्वत नदियाँ समतल धरती
और चाहिए क्या नर को
ले अवतार जहाँ खुद ईश्वर
मानव के दुख हरते है
वेद पुराणों की रचना कर
नर को शिक्षित करते है
चन्दा सूरज पशु वृक्षो को , देव जहाँ माना जाता
कंकर कंकर में शंकर जो , सबका भाग्य विधाता है
टुकड़ा नहीं धरा का —-

सब नदियाँ गंगा है अपनी
पूजा करते हम जिनकी
वेदों ने कह मार्ग मोक्ष का
बता महत्ता दी इनकी
बूँद बूँद में भरा है अमृत
सब को ये जीवन देती
सीख हमें देती बदले में
नहीं किसी से कुछ लेती
निकल जिधर से गयी वहाँ पर , जन्म सभ्यता ने पाया
पाप हरे उसके जो डुबकी , आकर कभी लगाता है
टुकड़ा नहीं धरा का —-

तुलसी पीपल की पूजा या
हाथ जोड़कर अभिवादन
माथे पर हो तिलक लगाना
बैठ धरा पर हो भोजन
अलग गोत्र में करना शादी
दक्षिण सिर करके सोना
चरण बड़ों के झुककर छूना
या सिर पर चोटी होना
इन तथ्यों के पीछे कारण , छिपे हुए है वैज्ञानिक
जुड़ा ज्ञान से धर्म सनातन , ये विज्ञान बताता है
टुकड़ा नहीं धरा का —-

सौ पापो को कृष्ण यहाँ पर
हँसता हँसता सहता है
कमजोरी ये नहीं हमारी
शौर्य खून में बहता है
विजय राम की लंका पर या
हो कुरुक्षेत्र महाभारत
दुष्टो का संहार सदा से
रही हमारी है आदत
जीवन जीने की शिक्षा सब , मिली विश्व को भारत से
सच्चा ज्ञान यहाँ वेदों का , हमको पथ दिखलाता है
टुकड़ा नहीं धरा का —-

मनोज मानव

Share this:
Author
मनोज मानव
गीतकार / गीतिकाकार / छंदकार

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you